योग द्वारा पेट दर्द की चिकित्सा व रोकथाम


corporate yoga classes

यह एक आम समस्या है। गैस, बदहज़मी, पेट में सूजन व ऐंठन तथा उल्टी आदि होने पर पेट दर्द शुरू हो जाता है। पथरी, हार्निया तथा संक्रमण आदि होने पर भी पेट दर्द होता है। इसके अतिरिक्त ज्यादा खाना खा लेने पर भी पेट दर्द की समस्या हो सकती है। एक चम्मच कच्चे और अनफ़िल्टर्ड सेब का सिरका तथा एक चम्मच शहद को पानी में मिलाकर दिन में तीन बार पीने से पेट दर्द में राहत मिलेगी। सौंफ के दानों को तवे पर गर्म करके पाउडर बना लें।

इस पाउडर को पानी के साथ दिन में दो बार लेने पर अपच से हो रहे पेट दर्द में राहत मिलती है। अदरक के छोटे छोटे टुकड़ों पर नमक डालकर चबाने से भी पेट दर्द में लाभ मिलता है। दो चम्मच अदरक के रस में नींबू का रस, थोड़ा-सा काला व सफ़ेद नमक मिलाकर पीने से भी पेट दर्द में राहत मिलती है।

आधे गिलास पानी में थोड़ा सा बेकिंग सोडा और नींबू मिलाकर पियें, लाभ मिलेगा। गर्म सेक करने पर पाचन क्रिया तेज हो जाती है। जिससे भोजन ठीक से पचता है और पेट दर्द ठीक हो जाता है। गर्म पट्टी या बोतल में गर्म पानी भरकर गर्म सेक किया जा सकता है।

विभिन्न शोध एवं अध्ययन के अनुसार नियमित रूप से कुंजल क्रिया, शंख प्रक्षालन, अनुलोम-विलोम, भ्रामरी, उज्जयी प्राणायाम, भुजंगासन, वक्रासन, वज्रासन तथा पवन मुक्तासन आदि करने पर इस बीमारी में लाभ मिलता है।  

Join our Membership

To avail free trial class or promo offers

Register Now