योग से लेकर आयुर्वेद को प्रमोट करने की तैयारी, नई IPR पॉलिसी से होंगे ये बदलाव.


corporate yoga classes

नई दिल्ली। मोदी सरकार ने नई आईपीआर पॉलिसी का ऐलान कर दिया है। सरकार की कोशिश है कि पॉलिसी के जरिए देश में इन्नोवेशन को बढ़ावा मिले। साथ ही योग , आयुर्वेद, यूनानी जैसी मेडिसिन पद्धतियों के ज्ञान को भी प्रोटेक्ट किया जा सके। इसके लिए सरकार ने पूरा रोडमैप तैयार कर लिया है।... 

आईपीआर को लेकर शुरू होगा कैंपेन सरकार द्वारा बनाई गई पॉलिसी के अनुसार देश में सबसे पहले जरूरी है कि इंटेलेक्चुअल्स प्रॉपर्टी राइट्स को लेकर जागरूकता बढ़ाई जाय। इसे देखते हुए मेक इन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया जैसे कैंपेन की तरह आईपीआर को लेकर कैंपेन पूरे देश में शुरू किया जाएगा। जिसे “रचनात्मक भारत, अभिनव भारत” नाम दिया जाएगा।... 

आएंगी इंसेटिव स्कीम ट्रेडमार्क, पेटेंट लोग कराएं इसके लिए सरकार एक इंसेटिव स्कीम भी लेकर आएगी। जिसमें खास तौर से स्टार्टअप और एसएमई को फोकस किया जाएगा। इंसेटिव स्कीम में रजिस्ट्रेशन फीस से लेकर मार्केटिंग आदि में सहूलियत दी जाएगी। जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग आईपीआर का फायदा उठा सकें।... 

रिसर्च को बढ़ावा देने पर मिलेगी टैक्स छूट पॉलिसी के अनुसार ऐसी कंपनियां जो इन्नोवेशन को बढ़ावा देने के लिए रिसर्च पर फोकस करेंगी, उन्हें टैक्स में छूट देने का प्रावधान किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार इसके लिए बकायदा फाइनेंस मिनिस्ट्री नए छूट के प्रावधानों का ऐलान कर सकती है। सरकार की कोशिश है कि इसके जरिए ज्यादा से ज्यादा कंपनियां कंपनियां रिसर्च को बढ़ावा दें।... 

सीएसआर में हो सकता है शामिल इन्नोवेशन को बढ़ावा देने के लिए कंपनियों द्वारा किए गए खर्च को कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉनसबिलिटी में भी शामिल करने की तैयारी है। यानी जो कंपनियां आईपीआर को प्रमोट करने के लिए राशि खर्च करेंगी, उसे सीएसआर माना जाएगा। ऐसे होने से उन्हें टैक्स छूट के साथ-साथ कंपनी कानून के तहत सीएसआर मानकों को पूरा करना आसान हो जाएगा।... 

पारंपरिक ज्ञान को पेटेंट करना पर जोर पॉलिसी में कहा गया है, कि भारत के पारंपरिक को सुरक्षित रखने के लिए जरूरी है, कि उन्हें पेटेंट कराया जाय। इसके तहत योग, , आयुर्वेद, यूनानी, सिद्धा, होमियोपैथी आदि जैसे चिकित्सीय ज्ञान को पेटेंट कराने पर फोकस किया जाएगा

30 दिन में होगा ट्रेड मार्क रजिस्ट्रेशन वित्त मंत्री अरुण जेटली के अनुसार, भारत में पहले से प्रभावी और मजबूत ट्रेडमार्क कानून है, लेकिन यह पॉलिसी ट्रेडमार्क रजिस्‍ट्रेशन की व्‍यवस्‍था को

लेकिन यह पॉलिसी ट्रेडमार्क रजिस्‍ट्रेशन की व्‍यवस्‍था को और मजबूत करेगी। उन्होंने ने कहा कि 2017 से ट्रेड मार्क रजिस्‍ट्रेशन में केवल एक माह का समय लगेगा,जिसमें अभी महीनों या कुछ साल तक लग जाते हैं। ट्रेडमार्क रजिस्‍ट्रेशन से जुड़ी अब सारी प्रक्रिया ऑनलाइन होगी।

Join our Membership

To avail free trial class or promo offers

Register Now